सिर्फ धूम्रपान से ही नही बल्कि इन कारणों से भी होता है फेफड़ों में कैंसर, जानिए लंग कैंसर की 5 सबसे बड़ी वजह

जिस तरह सुख के साथ दुख भी साथ चलता है इंसान की जिंदगी में बीमारी साथ चलता है. यहां हर इंसान किसी न किसी बीमारी से ग्रसित होता है फर्क इतना है कि कुछ लोग समय पर इलाज करवा कर देखभाल करते हैं और कुछ लोगो को अपने शरीर के अंदर की बीमारी की खबर नही होती. आजकल लोगो का दिनचर्या इस कदर बदल चुका है कि उनके शरीर को आये दिन बीमारी के चपेट में आना पड़ता है. उन्ही बीमारियों में से एक है – लंग कैंसर! कैंसर का नाम सुनते ही दिल दहल उठता है क्योंकि यह इतना जानलेवा बीमारी है जो भीतर ही भीतर शरीर को खोखला कर देता है.

सामान्य तौर पर लोग यही जानते हैं कि अत्यधिक धूम्रपान से लंग कैंसर होता है लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं जो सिगरेट तम्बाकू को हाथ भी नही लगाते पहर भी लंग कैंसर से पीड़ित हैं. इसकी क्या वजह हो सकती है? तो आज हम बताने जा रहे हैं 5 वजह जिसके कारण लंग कैंसर हो सकता है चाहे आप स्मोकिंग करें या ना करें…

1. एस्बेस्टस फाइबर होता है जानलेवा

वैज्ञानिकों के शोध से पता चलता है जिनके घरों में एस्बेस्टस फाइबर इस्तेमाल होता है उनके शरीर मे लंग कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. इसके अंदर मौजूद जानलेवा केमिकल सांसों के साथ हमारे शरीर मे प्रवेश कर जाता है जो लंग कैंसर का सबसे बड़ा कारण बनता है.

2. नही रहें इन चीजों के पास

कुछ चीज़ें ऐसी होती हैं जिनके पास रहना भी किसी खतरे से खाली नही होता. यदि आपके घर के पास कोयला, आर्सेनिक या प्रिंटिंग की फैक्ट्री हो तो वो जगह जितना जल्दी छोड़ दें. उससे निकलने वाले सूक्ष्म पदार्थ लंग कैंसर को न्योता देने का काम करते हैं.

3. यदि लंग फाइब्रोसिस से हैं पीड़ित

जिन लोगो को लंग फाइब्रोसिस जैसी बीमारी पहले से ही है उन्हें सेहत का अच्छी तरह ध्यान रखना चाहिए वरना कैंसर जल्दी हो जाता है. लंग फाइब्रोसिस के बढ़ जाने से कैंसर के कीड़े खुद ब खुद पनपने लगते हैं.

4. यदि पहले से है ये बीमारी

ये वजह खासकर उनलोगो के लिए बताया जा रहा है जिन्हें क्रॉनिक ब्रांकाइटिस संबंधित बीमारी है. उनलोगों को सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि जिन्हें भी यह बीमारी है उन्हें लंग कैंसर हो जाना आम बात हो गयी है इसलिए इस बीमारी को रोकना जरूरी है.

5. होता है जेनेटिक

वैसे बच्चें जिनके माता या पिता को पहले लंग कैंसर रहा है उनके लिए बुरी खबर है क्योंकि लंग कैंसर का फंडा भी थोड़ा जेनेटिक है. जो आगे के वंश में भी कायम रहा सकता है इसलिए शुरुआत दौर में ही चेकअप कराते रहें.

यदि आपके आसपास भी कुछ लोग ऐसी अवधारणा पाल रखें हैं कि यदि वो धूम्रपान करते हैं तब ही कैंसर होगा तो उन तक ये बाते पहुंचाकर उनकी आंखें खोल दी. यदि हम ऐसी लापरवाही बरतते रहे तो जिंदगी कभी भी खत्म हो सकती है। लंग कैंसर से जुड़ी बातों को नजरअंदाज करना घातक साबित हो सकता है क्योंकि यह बीमारी लगभग सभी लोगो में देखा जाने लगा है. इस दौरान डॉक्टर से संपर्क करने में ही भलाई है.

Source

You May Also Like