शादी के बाद दूल्हा दुल्हन को नहीं जाने दिया जाता टॉयलेट, क्या है कारण

शादी ब्याह एक ऐसी परंपरा है जिसे पूरी दुनिया में निभाया जाता है। हर कोई यही चाहता है की उसका जीवन शादी के बाद अच्छे से चले किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो। शादी व्याह को बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। काफी पैसा भी खर्च किया जाता है। तरह-तरह की रस्में होती है। हर जाति समुदाय या फिर अलग-अलग देशो में विभिन्न परम्पराएं होती है। वैसे भारत में होने वाली शादियों से आप अच्छे से वाकिफ होंगे और हमारे यहां तो शादी को सिर्फ शादी न समझ कर किसी त्यौहार की ही तरह मनाया जाता है। घर की सजावट से लेकर बारातियों के स्वागत तक एक एक रसम को बहुत अच्छे से निभाया जाता है।

आज हम आपको एक ऐसी शादी की रस्म के बारे में बता रहे हैं जिसके बारे में जान कर आपको अजीब भी लगेगा और गहरी सोच में भी पड़ जायेंगे। दुनिया की अजीब शादी की रस्मो में से एक ऐसी रस्म के बारे में हमें सुनने को मिला जिसे सुन कर हसी भी आएगी और ताज्जुब भी होगा। इस रस्म के अनुसार शादी होने के लगभग तीन दिन तक दूल्हा दुल्हन को टॉयलेट नहीं जाने दिया जाता। सुनने में अजीब लग रहा होगा लेकिन हमने इस बात की तेह टाक जाने की कोशिश करी।

सुनने में अजीब सी लगने वाली रस्म को इंडोनेशिया के टीडॉन्ग समुदाय के लोग निभाते हैं और इस रस्म को बहुत ज़ादा महत्व दिया जाता है। और तो और दूल्हा दुल्हन भी इस रस्म को बहुत ही ईमानदारी से निभाते हैं।

समुदाय के लोगो मन्ना है की शादी एक बहुत पवित्र समारोह है, जब शादी के कुछ टाइम के भीतर जब दूल्हा या दुल्हन टॉयलेट जाते हैं तो इससे बंधन की पवित्रता भंग हो जाती है। और अगर कोई ऐसा करता है तो इसे बहुत बड़ा अपशगुन भी माना जाता है, क्यों एक ही टॉयलेट का इस्तमाल कई लोग करते है और जब दूल्हा दुल्हन इसे इस्तेमाल करते हैं तो नेगेटिविटी शरीर के अंदर प्रवेश कर जाती है जिसकी वजह से दोनों के शादी शुदा जीवन में दिक्कतें पैसा होने लगती है।

You May Also Like