कुछ इस तरह से मुस्लिमों को रिझाने में लगे हुए हैं मोदी जी, जानें पूरी ख़बर

आज जैसे जैसे मोदी सरकार का कार्यकाल खत्म होने के कगार पर पहुँच रहा है वैसे-वैसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का झुकाव मुस्लिम समुदाय के लोगों की तरफ दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी पिछले कुछ दिनों से लगातार मुस्लिम समुदाय के लोगों के बीच अपनी व्यक्तिगत छवि सुधारने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। अपनी छवि को सुधारने के लिए ही प्रधानमंत्री मोदी ने हाल के दिनों में इंदौर में बोहरा समाज के 53वें धर्मगुरु के द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इसके साथ ही साथ नरेंद्र मोदी का तलाक से लेकर मुहर्रम जैसे त्यौहार में शामिल होना इस बात को साफ जाहिर करता है कि वह मुस्लिमों को रिझाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। तो चलिए जानते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी किन-किन तरीकों से मुस्लिमों को रिझाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं।

बोहरा समाज के कार्यक्रम में शामिल होना

बीते शुक्रवार को इंदौर में दाउदी बोहरा मुस्लिम समुदाय के 53वें धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन के कार्यक्रम में शामिल होकर मोदी ने एक नया इतिहास रच दिया। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह पहला ऐसा मौका था जब भारत का कोई प्रधानमंत्री बोहरा समाज के किसी कार्यक्रम में शामिल हुआ हो। अगर बात बोहरा समाज की करें तो बोहरा समाज के बारे में ऐसा बताया जाता है कि इनकी जनसंख्या भारत में बहुत ही कम है। बावजूद इसके इस समाज के लोग हमेशा प्रधानमंत्री मोदी के पक्ष में वोट दिया करते हैं। इस समाज से संबंध रखने वाले ज्यादातर लोग व्यापारी हुआ करते हैं। बोहरा समाज के इस कार्यक्रम में शामिल होकर मोदी ने इस बात को जाहिर करने की कोशिश की, कि वह मुस्लिम समाज के लोगों के दुश्मन बिल्कुल भी नहीं है।

तीन तलाक का मुद्दा

आज से कुछ दिनों पहले जब देश में तीन तलाक का मुद्दा जोरों पर था उस दौरान प्रधानमंत्री मोदी की सरकार ने तीन तलाक को खत्म करने के लिए जारी किए गए एक बिल को लोकसभा से पारित करवा दिया
परंतु आज यह बिल राज्यसभा में अटका पड़ा है। मोदी सरकार के द्वारा मुस्लिम महिलाओं के हित में उठाए गए इस कदम की सराहना मुस्लिम महिला संगठनों ने की थी।

सूफी मुस्लिम सम्मलेन में शरीक होना

प्रधानमंत्री मोदी यूँ तो मुस्लिमों के द्वारा आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रम में बहुत ही कम मौके पर शरीक हुआ करते हैं। परंतु हाल के दिनों में ही दिल्ली में आयोजित किए गए विश्व सूफी सम्मेलन में शामिल होकर उन्होंने सूफिज्म के जरिए इस्लाम के कट्टरवाद के ऊपर जमकर हमला बोला था। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि देश में बरेलबी मुस्लिम की एक बड़ी आबादी मौजूद है जो कि सूफीवाद के सबसे ज्यादा करीब है।

उर्दू में किताब का लॉन्च होना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा लिखी गई पुस्तक एग्जाम बैरियर्स का उर्दू संस्करण बहुत ही जल्द लांच होने वाला है। ऐसे बताया जा रहा है कि इस किताब में नरेंद्र मोदी ने बच्चों को परीक्षा के तनाव से बचने के 25 ऐसे तरीके बताए हैं जिसे अमल में लाने के बाद हरे का स्टूडेंट की परेशानी खत्म हो जाएगी। उर्दू में इस किताब के लांच कराने के पीछे की वजह मुस्लिम छात्रों के ऊपर पकड़ बनाने को बताया जा रहा है।

You May Also Like