हुक्के ने मचाई तबाही, कुछ मिनटों में हुआ सब तहस नहस !

शहर में जब लड़का और लड़की से मस्ती भरे जगहों का नाम पूछा जाए तो उनकी चॉइस में पब और क्लब ही शामिल होते हैं. लेकिन कुछ दिनों से जवां दिलों में नया ट्रेंड सामने आ रहा है “हुक्का” ये पहले बड़े बुजुर्ग गांव में पिया करते थे या फिर हुक्का पार्लर में ही देखा जाता था. लेकिन बदलते ट्रेंड के बाद आज यह हर पब, पार्टी और होटल में भी उपलब्ध है। बीते दिन मुंबई में हुक्का पीने के चक्कर मे इतना बड़ा हादसा हुआ जिसकी कभी उन्होंने कल्पना भी नही की होगी. चलिये जानते हैं उस हादसे के बारे में जो नए साल के पार्टी में कोहराम लेकर आया…

नए साल की पार्टी में गयी जान

दरअसल यह मामला मुम्बई में हुआ जहां नव वर्ष के पार्टी पर सभी कपल एन्जॉय कर रहे थे और उनमें से कुछ हुक्के का आनंद ले रहे थे. अभी कुछ ही वक़्त हुआ कि हुक्के की वजह से आग की लपटें बढ़ी और पल भर में वह वेन्यू जलकर राख हो गया. इस हादसे के बाद न्यूज़ रिपोर्ट कुछ इस प्रकार थे – मुम्बई के कमला मिल में आगलगी, मोजो बिस्त्रो में हुक्के ने लिया आग का भीषण रूप, दोनो रेस्टोरेंट ने नियम को तोड़ा तो रेस्टोरेंट हुआ राख में तब्दील, हादसे के आरोपी फरार जानकारी देने वाले को मिलेगा बड़ा इनाम. आपके जेहन में भी यह सवाल उठ रहा होगा कि होटलों में ऐसी लापरवाहियां क्यों करते हैं? जहां सुरक्षा का इंतजाम नही वहां हुक्के से हादसे को बुलावा देना क्या सही है? तो निम्न रिपोर्ट को जानने के बाद आपकी आंखें भी खुली की खुली रह जायेगी.

फायर ब्रिगेड ने दी असली रिपोर्ट

इस मामले की जांच के दौरान फायर ब्रिगेड ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि आगलगी की शुरुआत मोजो बिस्त्रो नामक रेस्टोरेंट से हुआ जब वहां आये कस्टमर्स ने हुक्के की मांग की. वहां मौजूद लोगों ने भी बताया है कि जब हुक्का पिया जाने लगा तो उसे निकलने वाली आग की चिंगारी सजावट के सामानों पर पर्दने लगी. तब वहां उपस्थित लोगों ने आगाह भी किया लेकिन लुफ्त उठा रहे लोगों ने किसी की नही सुनी. देखते ही देखते आग बड़े स्तर से फैल गया और धमाके शुरू हो गए.

आग लगी में गयी जाने

मुंबई शहर में आये दिन ऐसे वारदात हो रहे हैं जैसे वहां इंसान की कोई वैल्यू ही नही है. पहले इस तरह का माहौल नही था जबकि अब होटल के मालिक पैसा देकर इस तरह के अवैध सामान बनाते हैं और लगतो कि जान की धज्जियाँ उड़ा देते हैं. जानकारी के लिए बटां दें कि 29 दिसम्बर को हुए इस हादसे में लगभग 14 लोग जलकर राख हो गए वहीं सैंकड़ो घायल भी हुए. दमकल कर्मियों ने बताया कि मरने वाले लोगो मे और भी कई शामिल हैं लेकिन उनकी बॉडी इस तरह झुलस गई है कि उसका पहचान करना मुश्किल हो गया है.

अब बढ़ रहे वारदात की कई वजहें हैं पहली तो ये की अब के युवा की पसंद बदलने लगी है और अक्सर जानलेवा चीज़ों को ही पसंद बना लेते हैं. वहीं दूसरी ओर होटल के मालिक ज्यादा कमाई के लिए BMC को पैसे देते हैं और इस तरह के अवैध सामान को होटल में ही बनवाकर पैसे कमाते हैं. लेकिन कुछ पैसो के लालच में वहां आने वाले कस्टमर्स की जान दाव पर लगा देते हैं. ना ही किसी तरह की सुरक्षा का प्रबंध होता है नकी आपातकाल का, आखिर कब तक इंसानों की जान की कीमत को नकारा जाएगा.

You May Also Like