बच्चे ने पिता के खिलाफ दर्ज़ की रिपोर्ट, कहा- “पापा को मार मार के जान निकाल दो”

उत्तरप्रदेश : हम देख सकते हैं कि आज के पीढ़ी के लोग कितने फ़ास्ट फारवर्ड हो चुके हैं. इस टेक्नोलॉजी वर्ल्ड में बच्चे पहले की तरह नही रहे आज पैदा होने के कुछ दिन बाद से ही उन्हें वीडियो गेम की लत लग जाती है. पहले के छोटे बच्चे शर्मीले और मासूम स्वभाव के होते थर जबकि आजकल के बच्चे एक नंबर के नॉटी और होशियार होते हैं. इस नए जमाने के बच्चों को यदि किसी चीज़ को पाने की जिद हुई तो वह तब तक रोते रहते हैं या मुँह फुलाये रहते हैं जब तक वही चीज़ मिल नही जाती हो. मुश्किल तब आ जाती है जब किसी ऐसे चीज़ की जिद करें जो असंभव हो या फिर कुछ ऐसे चीजों की मांग भी कर देते हैं जो उनके बचपना के लिए सही नही होता और ऐसे में अगर घरवाले देने से मना कर दें तो बच्चों को अपने परिजन ही दुश्मन लगने लगते हैं.

अनुभव के मुताबिक हम कह सकते हैं बच्चों की सोच हमलोगों से बिल्कुल अलग होती है. यदि कोई बात हम उन्हें प्यार से समझाएं तो जल्दी समझ जाते हैं लेकिन हमारा गुस्सा हमपर ही भारी पड़ जाता है. एक ऐसा ही हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है जब एक 11 वर्ष के छोटे बच्चे ने पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज करवाने की कोशिश की. हुआ यूं कि बच्चे ने एक ऐसी डिमांड की थी जिसे पिता पूरा नही कर सके फिर क्या था उसने पापा को ही ‛पापी’ मान लिया और पहुंचा पुलिस थाने…

छोटे बच्चे ने किया पिता पर केस

खबर से पता चलता है कि वह बच्चा करौल मोहल्ले के रहने वाला है और उसका नाम ओम नारायण गुप्ता है. जानकारी से यह भी पता चला कि उसके पिता का नाम अमरनाथ गुप्ता है और वह बच्चा अभी 5वीं कक्षा में पढ़ता है. हाल ही में यह देखा गया कि ओम अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन पहुंचा और अपने पिता के खिलाफ़ एफआईआर दर्ज करने की रिक्वेस्ट की. पुलिस ने जब माजरा जानने की कोशिश की तो उसने अपनी आपबीती सुना दी.

इस जिद की वजह से उठाया कदम

ओम ने गुस्से में बताया कि उसके पिता ने इटावा में लगने वाले मेले नुमाइश में ले जाने का वादा किया था लेकिन अब अपने वादे से मुकर गए. उसने पुलिस के सामने भी अपना बयान खुले शब्दो मे देना शुरू कर दिया, नाम बताने के साथ-साथ उसने यह भी बताया कि उसके बाकी सभी दोस्त माधव, अंकित और कई लड़के हैं जो नुमाइश जाकर लौट आये जबकि उसने अपनी पापा से ले जाने की रिक्वेस्ट की तो उसके पिता ने चाटा मारते हुए कहा – अब तुम चाहे जितनी भी जिद कर लो नुमाइश नही लेकर जाऊंगा’ इतना कहकर बच्चे ने दरोगा से रिक्वेस्ट किया कि उसके पिता के खिलाफ केस दर्ज कर ले.

पिता की इतनी शिकायतें

उसने गुस्से में आंखे लाल करते हुए यह भी कहा – मेरे पापा को लगता है कि गुस्सा सिर्फ उन्हें ही आता है, आप FIR लिखो और मेरे पापा को जेल में बंद करके खूब पिटो, वो बहुत गंदे हैं, उन्हें इतना मारो की लहूलुहान हो जाएं. ये बयान सुनकर वहां उपस्थित सभी पुलिसवालों के कान खड़े हो गए. बाद में बच्चे ने यह भी कहा -‛मेरे पापा हर शनिवार और रविवार खुद घूमने निकल जाते हैं और घंटो तक वापस नही आते लेकिन मुझे कभी साथ नही ले जाते. मम्मी भी उनके हरकतों से हमेशा गुस्सा रहती है, इसलिए उन्हें पनिशमेंट दो”. इसके बाद पुलिस कर्मचारियों ने उसे घर जाने को कहा और बोला कि हम तुम्हारे पापा से मिलकर उन्हें अच्छी तरह समझा देंगे और वो नही ले गए तो हम तुम्हे नुमाइश लेकर जाएंगे.

Source

You May Also Like