एक ऐसी जगह जहां एक-दूसरे पर जहरीले सांप फेंकने की है परंपरा, देखकर दातों तले उंगली दबा लेंगे आप

हमारे भारत में एक से एक रीति रिवाज हैं, कुछ तो ऐसे हैं जिनके बारे में बात करते हुए भी शर्म आती है लेकिन कुछ ऐसी हैं जिनके बारे में सुन कर ही कलेजा काँप उठता है। हम यह सोचने पर मजबूर हो जाते हैं के क्या ऐसा भी होता हैं हमारे भारत में? अभी हाल ही हमने एक पोस्ट लिखी थी जिसमे साँपों का ज़िक्र था, जहां पर शादी में दहेज़ में 21 सांप दिए जाते हैं, और इन 21 सांपो को घर में रखा जाता है और घर के सारे सदस्य इन साँपों के साथ खाना भी खाते हैं। ऐसी ही एक परंपरा है जहा पर लोग एक दुसरे पर सांप फेकते हैं, जी हां आपने कुछ गलत नहीं पढ़ा।

बेगूसराय से 40 किलोमीटर दूर बसा है मंसूरचक प्रखंड का आगापुर गांव। इसी गांव में सांप के साथ की जाने वाली एक ऐसी परंपरा है, जिससे देख कर या जानकर आपके होश उड़ जाएंगे। वैसे तो बिहार राज्य का आगापुर गांव भी देश के दूसरे गांवों की तरह ही है, लेकिन यहां की एक परंपरा इस गांव को और से अलग बनाती है। इस गांव में एक सप्ताह ऐसा खेल खेला जाता है,जिसे देख कर आप भी दंग रह जाएंगे।


नागपंचमी से कुछ दिन पहले यह मेला शुरू होता है और यह मेला एक हफ्ते क लिए लगता है, इस वजह से लोग यहाँ पर सांप पकड़ना शुरू कर देते होंगे। ऐसा सांप की पूजा करने के लिए नहीं होता बल्कि साँपों के साथ खेलने के लिए करते हैं। एक ऐसा अजीबो गरीब खेल जिसमे जिसका सांप जितना ज़्यादा ज़हरीला होगा उस व्यक्ति की उतनी ही ज़ादा पूछ होगी। इस मेले में सांप को लोग अपने गले में डालकर घूमते हैं। यहाँ तक की सांपो को एक दुसरे के ऊपर फेंकते भी हैं।

इस खतरनाक खेल में हर साल मेले में बहुत सरे लोगो की जान भी जा चुकी है इसके बावजूद यह परंपरा अभी भी कायम है। रिपोर्ट्स के हिसाब से इस गाँव में लगभग 200 प्रजाति के सांप पाए जाते हैं। लेकिन इनमे ज़्यादातर प्रजातियां ज़हरीली नहीं हैं।

You May Also Like